• Mountain View XA-6, Sah Vikas Apartment, I.P.Extension, Patparganj, Delhi, 110092
  • Mountain View +91-7065003166
  • Mountain View youth4swaraj@gmail.com

MOM and Resolutions

Welcome To Y4S

MOM

MINUTES OF MEETING OF ORGANIZING COMMITTEE DATED 03/04/2016 HELD AT SAI MANDIR, NEW DELHI

1. Two days National workshop of Students and Youth was concluded successfully at New Delhi under the mentorship of Prof Anand Kumar on 03/04/2016. There was a general consensus among the participants of the workshop that a new organization for students & Youth is need of the hour.

2. It was decided that a National Convention be called on August 09, 2016 for announcement of new organization and adoption of its constitution.

3. Post workshop Organizing committee for the convention met first time on April 03, 2016 and following agenda have been discussed and decided as follows:

 I. Organizing committee will be the apex body that will take all the decisions under the mentorship of Prof Anand Kumar regarding the National Convention of Students and Youth on August 09, 2016.

 II. It was decided that Mr. Manish Kumar will coordinate with other members of the committee and will act as POC for secretariat. Mr. Dharmendra and Akash have shown keen interest in building the secretariat.

 III. It was decided that a strong communication network (e.g. email group, WhatsApp group etc.) will be developed within a week time.

 IV. It was decided that a memorandum will be presented to VCs of universities for implementation of UGC guidelines on equity in Education on 14th April, 2016.

 V. It was decided that under the guidance of Prof. Anand Kumar a committee will be formed that will work on the vision documents, mission statement and constitution for the future organization. Once the draft will be prepared, it shall be shared with members of organizing committee for further consultation and suggestions.

 VI. It was decided that by the end of April, 2016 a state preparatory committee will be formed for National Convention of Students and Youth on August 09, 2016.

 VII. It was decided that by the end of April, 2016 POCs in at least 100 universities will be identified.

 VIII. It was decided that Mr. Manish Kumar will arrange a weekly conference-call for the Organising Committee members to assesses and discuss the development in this regard.

Resolutions

संकल्प पत्र
03 अप्रैल 2016, साई मंदिर, नई दिल्लीI

स्वराज अभियान ने दिल्ली में अप्रैल 2-3 को छात्र और युवाओं के राष्ट्रीय शिविर का आयोजन किया। दो दिन चले शिविर में पहले दिन छात्र युवा राजनीति और विचारधारा से जुड़े वैचारिक सवालों पर मंथन हुआ। अगले दिन अप्रैल 3 को सांगठनिक रूपरेखा पर चर्चा हुई। राष्ट्रीय अध्यक्ष प्रो आनंद कुमार, राष्ट्रिय महासचिव अजित झा, प्रशांत भूषण और योगेंद्र यादव की उपस्थिति में देश भर से आये युवाओं ने ये फैसला लिया कि स्वराज अभियान छात्रों और युवाओं का एक राष्ट्रव्यापी संगठन बनाएगा।

चर्चा से यह सहमति बनी कि युवाओं और छात्रों के लिए एक ही संगठन हो, ना कि दो अलग अलग संगठन।

संगठन की विधिवत घोषणा के लिए 9 अगस्त, 2016 को एक राष्ट्रीय युवा सम्मलेन के आयोजन का निर्णय हुआ।

9 आगत के सम्मलेन के लिए एक राष्ट्रीय तैयारी समिति का गठन किया गया।

संकल्प लिया गया कि कम से कम 100 विश्वविद्यालय परिसरों से 9 अगस्त के राष्ट्रीय सम्मलेन में टीम आये।

पालमपुर के सम्भावना इंस्टिच्यूट में 25 जून से 1 जुलाई तक एक राष्ट्रीय शिविर के आयोजन का भी संकल्प लिया गया।

Minutes of the brain storming session on Shiksha Swaraj held on 04, September 2015 at N D Tiwari Bhavan, New Delhi.

Brain storming session on Shiksha Swaraj was held on 04, September 2015 at N D Tiwari Bhavan, New Delhi. It concluded that system of Education has failed the country in multiple ways like:

- Lack of employable skills in literate youth;

- Lack of equal opportunity in education;

- Poor quality of education;

- Academic content that neither appropriate nor appreciates our rich cultural and intellectual heritage.

It was also concluded in the meeting that there is an urgent need to launch a Shiksha Swaraj Andolan, a movement to demand a comprehensive and systematic overhauling of structure of education. There was a broad consensus that this movement shall focus on the following issues:-

A. The Judgment of Allahabad High Court making it mandatory for people’s representative and government employees to send their children to government funded primary schools should be implemented across country.

B. Effective implementation of Right to Education for children from economically weaker sections of society and reserving 25% seats for such children in all private schools.

C. Organized reform to end fraud and corruption in admission to professional higher educational institutions and recruitment scams in public sector jobs.

The following 3-C action plan was decided upon in the meeting:-

A. Consultation: A consultation with experts in the field and activists usingdraft paper circulated in the meeting as basis.

B. Camps: Organizing camps for select students and youth who would like to be associated with Siksha swaraj andolan.

C. Convention: One day national convention for encouraging participation and involvement of students, young teachers and parents for this purpose. Beofre that several state leval conventions are to be organised.

शिक्षा स्वराज: संकल्प पत्र
3 नवंबर 2015, CCI, नई दिल्लीI

सबके लिये, सहज-सुलभ, सामान और सार्थक शिक्षा के लिये एक नये आन्दोलन का

संकल्प देश के अलग –अलग कोने से इस युवा सम्मलेन में भाग लेने आए हम सब विद्यार्थी, युवजन, शिक्षक और अभिवाहक आज देश की शिक्षा व्यवस्था में अविश्वास व्यक्त करते हुए एक नयी व्यवस्था के निर्माण के लिए शिक्षा स्वराज आन्दोलन की अनिवार्यता को स्वीकार करते हैI

हमें आज़ादी के आन्दोलन से औपनिवेशिक, भेदभावपूर्ण शिक्षा की जगह एक नया आदर्श मिला था – सबको शिक्षा, सामान शिक्षा, सार्थक शिक्षाI लेकिन पिछले 68 साल में इस सपने को झुठला दिया गयाI

आज कागज पर “शिक्षा का अधिकार” नामक कानून के बावजूद यह व्यवस्था हमारी नयी पीढ़ी के बहुसंख्यक बच्चों की शैक्षणिक हत्या करती हैI देश के एक-तिहाई बच्चे पांचवी कक्षा के पार नहीं जा पाते और सिर्फ 21 फीसदी युवजन किसी भी कॉलेज या यूनिवर्सिटी के दरवाजे तक पहुच पाते हैंI अवसरों की समानता की जगह शिक्षा के अवसर पैसो वालों के लिये आरक्षित कर दिए गए हैंI भाषाई रंगभेद के चलते सभी भारतीय भाषाओँ के साथ भेदभाव हो रहा हैI यह शिक्षा न तो ज्ञान दे पा रही है ना ही रोजगारI उलटे यह व्यवस्था हमें अपनी वैचारिक संपदा और सांस्कृतिक परम्पराओं से कटती है, अपने परिवेश और जरूरतों से दूर करती हैI इस वयवस्था को हम नामंजूर करते हैI

यह सम्मलेन एक ऐसी वैकल्पिक शिक्षा वयवस्था का संकल्प लेता है जिसमें -

• हर बच्चे को शिक्षा की सुविधा सहज-सुलभ होI

• कोई बच्चा पैसे या अवसरों की कमी से शिक्षा के अवसरों से वंचित न रहेI

• गरीब, गाँव के जाति और धर्मलड़ के आधार पर नयी पीढ़ी और लड़कियों को बराबर खड़ा करने की लिये विशेष अवसर मिलेंI

• भारतीय भाषाओं में शिक्षा के सर्वोच्च अवसर मिलेंI अंग्रेजी सिखने का मौका हर विद्यार्थी को मिले, लेकिन अंग्रेजी माध्यम की शिक्षा को थोपा नहीं जायI

• राष्ट्रीय पाठ्यचर्चा रुपरेखा (NCF-2005) के अनुरूप शिक्षा का पाठ्यक्रम हमारे परिवेश से जुड़ा हो, हमारी वैचारिक परम्पराओं और सांस्कृतिक विरासत की समझ पैदा करे, सवाल पूछने और उत्तर खोजने का साहस पैदा करेंI

• शिक्षा मुनाफा कमाने का धंधा न रहे बल्कि एक सुन्दर देश और दुनिया बनाने का औजार बनेI

इस सन्दर्भ में हमें हाल की कुछ घटनाओं पर ध्यान देना चाहेंगे-

1. हाल में इलाहाबाद उच्च-न्यायालयने देश में सभी सरकारी कर्मचारियों, अधिकारीयों और जनप्रतिनिधियों के लिए अपने अपने बच्चों के सरकारी प्रथिमिक स्कूलों में पढ़ाने की अनिवार्यता का ऐतिहासिक फैसला सुनाया हैI इस फैसले का स्वागत करते हुए हम मांग करते है कि यह सिद्धान्त पूरे देश पर लागू होI

2. देश के अलग–अलग इलाकों में निजी स्कूलों और कॉलेजों की फीसों पर लगाम लगाने के आंदोलनों का हम समर्थन करते हैI

3. शिक्षा का अधिकार कक्षा 8 से बढ़ाकर कक्षा 12 तक किया जायेI

4. विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा ऍम.फिल/पी.एच.डी. के लिये ‘नॉन-नेट’ छात्रवृति को बंद करने का फैसला हमें नामंजूर हैI हम इसके विरोध में छात्र आन्दोलन का समर्थन करते है और मांग करते है कि उच्च शिक्षा में छात्रवृत्तियों की ऐसी व्यवस्था हो कि कोई छात्र/छात्रा साधनों के अभाव में शिक्षा से वंचित न होI

5. मध्यप्रदेश के व्यापम घोटाले ने पुरे देश में सरकारी नौकरीयों की लूट और एडमिशन में धांधली की ओर ध्यान खींचा हैI हम इन घोटालों के विरुद्ध सभी संघर्षो का समर्थन करते हुए इस सवाल पर जनांदोलन शुरु करने का संकल्प लेते हैंI

हम पूरी तरह वाकिफ है कि एक वैकल्पिक शिक्षा वयवस्था सिर्फ सुझाव, तर्क और अनुनय-विनय से नहीं होगाI आज की व्यवस्था से बाजारीकरण का निहित स्वार्थ हावी हैI इसे तोड़ने के लिए विद्यार्थी, युवजन, शिक्षकों और अभिवाहकों को मिलकर एक जनांदोलन खड़ा करना होगाI

इस ऐतिहासिक सम्मलेन में आए हम सब मिलकर सबको, सहज-सुलभ, समान और सार्थक शिक्षा का नया आन्दोलन खड़ा करने का संकल्प लेते हैंI